प्रदेश में 16 जनवरी से कोरोना वैक्सीनेशन शुरू, पहले चरण में स्वास्थ्य कर्मी को लगेगा वैक्सीन

0
61
छत्तीसगढ़ कोरोना वैक्सीनेशन
छत्तीसगढ़ कोरोना वैक्सीनेशन

रायपुर (प्रखर) । लगभग एक साल के इंतजार के बाद कोविड संक्रमण से बचाव के लिए वैक्सीन तैयार कर लिया गया है। वैसे तो लोगों को वैक्सीन बनने की खबर मिलने के बाद से थोड़ी राहत मिल गई थी, लेकिन अब पूरे देश के साथ प्रदेश के लोगों तक वैक्सीन पहुंचाने की तैयारी जोरो से की जा रही है ।इसी कड़ी में आज रायपुर स्थित होटल कोटियार्ड में ,यू.एन.डी.पी, यूनिसेफ, डब्लू.एच.ओ. नेशनल हेल्थ मिशन और छत्तीसगढ़ शासन के सहयोग से प्रेसवार्ता का आयोजन किया गया था।

प्रेसवार्ता के दौरान राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन की संचालक डॉक्टर प्रियंका शुक्ला ने बताया की प्रदेश में 16 जनवरी से वैक्सीनेशन लगाना शुरू किया जाएगा, जिसकी तैयारी पूरी ऐतिहात के साथ किया जा रहा है। उन्होंने बताया कि गॉर्वेमेंट ऑफ इंडिया निर्देशानुसार फ्रंट लाइन के लोगों को पहले वैक्सीन लगाया जाएगा। प्रथम चरण में स्वास्थ्य विभाग के कर्मचारियों को वैक्सीन लगया जाएगा। इसमें भी हॉस्पिटल में कार्यरत स्वास्थ्य कर्मियों को पहले प्राथमिकता दी जा रही है ।

वनांचल क्षेत्रों में रखा जाएगा खास ध्यान

वैक्सीन लगाने के लिए कोविन एप के द्वारा अब तक 2 लाख 67 हजार स्वास्थ्य कर्मियों का पंजीयन किया जा चुका है। दूसरे चरण में सरकारी अमले को और तीसरे चरण में 60 वर्ष के ज्यादा के लोगों को वैक्सीन लगाया जाएगा। वहीं उन्होंने बताया कि प्रदेश के दूरस्थ वनांचल क्षेत्रों में वैक्सीनेशन की तैयारी को लेकर खासा ध्यान रखा जाएगा।

प्रदेश में 96 फीसदी रिकवरी दर

उन्होंने बताया कि प्रदेश में 9 जनवरी तक 2 लाख 88 हजार 570 लोग संक्रमित पाए गए हैं।  जिनमें 2 लाख 75 हजार 812 मरीज ठीक हो गए हैं । प्रदेश में रिकवरी दर 96 फीसदी है। वहीं अब तक संक्रमण से 3 हजार 384 लोगों की मौत हो चुकी है। डॉ. शुक्ला ने बताया कि संक्रमण से मरने वालों में सबसे ज्यादा 60 वर्ष या उससे ज्यादा उम्र के लोग है, जिनमें ज्यादातर लोग पहले से ही किसी अऩ्य बिमारी से संक्रमित थे।

वैक्सीन का रखऱखाव और टीकाकर्मियों का प्रशिक्षण

वैक्सीन के रखरखाव और टीकाकर्मियों के प्रशिक्षण पर डॉ. प्रियंका शुक्ला ने कहा कि पूरे प्रदेश में हमने 349 स्थान आइंडेटिफाई करेंगे, इन जगहों के लिए हमने 7116 टीकाकर्मियों को प्रशिक्षित किया है। इसके अलावा हमने 13 हजार स्वास्थ्यकर्मियों को टीकाकरण के लिए प्रशिक्षित किया गया है, जिससे हमें जरूरत पड़े तो हम एक्सीलेटरस की संख्या बढ़ा सकें।

जागरूकता कार्यक्रम जारी

वैक्सीन की विश्वसनीयता के सवाल पर डॉ. प्रियंका शुक्ला ने कहा कि उनके हिसाब से तो वैक्सीन पूरी तरह से विश्वसनीय है और धीरे-धीरे जैसे ही हमें जानकारियां प्राप्त होती जाएगी हम आपसे शेयर करते रहेंगे। अभी तो उन्होंने कहा है कि यह पूरी तरह से यह विश्वसनीय है। उन्होंने आगे कहा कि अवेयरनेस को लेकर लगातार प्रोग्राम चलाया जा रहा है और आगे भी चलाया जाएगा। वहीं उन्होंने कहा कि वैक्सीन के रखरखाव को लेकर सारी तैयारियां पूरी हो चुकी हैं। सभी टीकाकर्मियों को प्रशिक्षित किया जा चुका है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here