पुण्यतिथि विशेष उपेन्द्रनाथ अश्क : जिनकी रचनाओं में यथार्थता और मानवीय रिश्तों के ताने बाने का अद्भुत मिश्रण देखने को मिलता था

0
98

हिंदी-उर्दू प्रेमचंदोत्तर कथा साहित्य के विशिष्ट कथाकार उपेन्द्रनाथ अश्क की पहचान, बहुविधावादी रचनाकार होने के बावजूद एक विशेष कथाकार के रूप में ही है। राष्ट्रीय आंदोलन के बेहद उथलपुथल से भरे दौर में उनका रचनात्मक विकास हुआ, जलियांवाला बाग जैसी नृशंस घटनाओं का उनके बाल मस्तिष्क पर गहरा प्रभाव पड़ा था। उनका गंभीर और व्यवस्थित लेखन प्रगतिशील आंदोलन के दौर में शुरू हुआ। उसकी आधारभूत मान्यताओं का समर्थन करने के बावजूद उन्होंने अपने को उस आंदोलन से बांधकर नहीं रखा। यद्यपि जीवन से उनके सघन जुड़ाव और परिवर्तनकामी मूल्य-चेतना के प्रति झुकाव, उस आंदोलन की ही देन थी। साहित्य में व्यक्तिवादी-कलावादी रुझानों से बचकर जीवन की समझ का शऊर और सलीका उन्होंने इसी आंदोलन से अर्जित किया था। भाषा एवं शैलीगत प्रयोग की विराट परिणति उनकी इसी सावधानी की परिणति थी। उनकी कहानियां मानवीय नियति के प्रश्नों, जीवनगत विडंबनाओं, मध्यवर्गीय मनुष्य के दैनंदिन जीवन की गुत्थियों के चित्रण के कारण; नागरिक जीवन के हर पहलू संबद्ध रहने के कारण सामान्य पाठकों को उनकी कहानियाँ अपनापे से भरी लगती हैं, उनमें राजनीतिक प्रखरता और उग्रता के अभाव से किसी रिक्तता बोध नहीं होता हैं।

जालंधर में हुआ जन्म

उपेन्द्रनाथ अश्क जी का जन्म पंजाब प्रान्त के जालंधर नगर में 14 दिसम्बर, 1910 को एक मध्यमवर्गीय ब्राह्मण परिवार में हुआ था। अश्क जी छ: भाइयों में दूसरे हैं। इनके पिता ‘पण्डित माधोराम’ स्टेशन मास्टर थे। जालंधर से मैट्रिक और फिर वहीं से डी. ए. वी. कॉलेज से इन्होंने 1931 में बी.ए. की परीक्षा पास की। बचपन से ही अश्क अध्यापक बनने, लेखक और सम्पादक बनने, वक्ता और वकील बनने, अभिनेता और डायरेक्टर बनने और थियेटर अथवा फ़िल्म में जाने के अनेक सपने देखा करते थे। 19 जनवरी, सन् 1996 को हिंदी साहित्य का यह महाम रचनाकार पंचतत्व में विलीन हो गया।

उनकी रचनाओं में सामाजिक और वैयक्तिक जीवन की समस्त समस्याओं-राग द्वेष का प्रतिनिधित्व मिलता था

सृजन की सहज क्षनमता से ही अश्क जी की लेखन शक्ति और भाव जगत् की समृद्धता का अनुमान लगाया जा सकता है। उपन्यास, नाटक, कहानी और काव्य क्षेत्र में अश्क जी की उपलब्धि मुख्यत: नाटक, उपन्यास और कहानी में विशेष रूप से महत्त्वपूर्ण है। ‘गिरती दीवार’ और ‘गर्म राख’ हिन्दी उपन्यास के क्षेत्र में यथार्थवादी परम्परा के उपन्यास हैं। सम्पूर्ण नाटकों में ‘छठा बेटा’, ‘अंजोदीदी’ और ‘क़ैद’ अश्क जी की नाट्यकला के सफलतम उदाहरण हैं। ‘छठा बेटा’ के शिल्प में हास्य और व्यंग, ‘अंजोदीदी’ के स्थापत्य में व्यावहारिक रंगमंच के सफलतम तत्त्व और शिल्प का अनूठापन तथा ‘क़ैद’ में स्त्री का हृदयस्पर्शी चरित्र चित्रण तथा उसके रचना विधान में आधुनिक नाट्यतत्त्व की जैसी अभिव्यक्ति हुई है, उससे अश्क जी की नाट्य कला और रंगमंच के परिचय का संकेत मिलता है। एकांकी नाटकों में ‘भँवर’, ‘चरवाहे’, ‘चिलमन’, ‘तौलिए’ और ‘सूखी डाली’ अश्क जी की एकांकी कला के सुन्दरतम उदाहरण हैं। सभी एकांकी रंगमंच के स्वायत्त अधिकारी हैं। अश्क जी की कहानियाँ प्रेमचन्द के आदर्शोन्मुख यथार्थवाद अथवा विकास क्रम से प्राप्त विशुद्ध यथार्थवादी परम्परा की हैं। कहानी कला और रचना शिल्प स्पष्ट कथा तत्त्व के सहित मूलत: चरित्र के केन्द्र बिन्दु से पूर्ण होता है। अश्क जी के समस्त चरित्र उपन्यास, नाटक अथवा कहानी किसी भी साहित्य प्रकार में सर्वथा यथार्थ हैं। उनसे सामाजिक और वैयक्तिक जीवन की समस्त समस्याओं-राग द्वेष का प्रतिनिधित्व होता है।

सम्मान और पुरस्कार

उपेन्द्रनाथ अश्क जी को सन् 1972 ई. में ‘सोवियत लैन्ड नेहरू पुरस्कार’ से भी सम्मानित किया गया था। इसके अलावा उपेन्द्रनाथ अश्क को 1965 में संगीत नाटक अकादमी पुरस्कार से भी सम्मानित किया गया था।

उपेन्द्रनाथ अश्क प्रमुख कृतियां

कहानियाँ

अंकुर, नासुर, चट्टान, डाची, पिंजरा, गोखरू, बैगन का पौधा, मेमने, दालिये, काले साहब, बच्चे, उबाल, केप्टन रशीद आदि अश्क जी की प्रतिनिधि कहानियों के नमूने सहित कुल डेढ़-दो सौ कहानियों में अश्क जी का कहानीकार व्यक्तित्व सफलता से व्यक्त हुआ है।

काव्य ग्रन्थ

‘दीप जलेगा’ (1950) ‘चाँदनी रात और अजगर’ (1952) ‘बरगर की बेटी’ (1949)

संस्मरण

‘मण्टो मेरा दुश्मन’ (1956) ‘निबन्ध, लेख, पत्र, डायरी और विचार ग्रन्थ-‘ज़्यादा अपनी कम परायी’ (1959)

‘रेखाएँ और चित्र’ (1955)।

अनुवाद

‘रंग साज’ (1958)- रूस के प्रसिद्ध कहानीकार ‘ऐंतन चेखव’ के लघु उपन्यास का अनुवाद।

‘ये आदमी ये चूहे’ (1950)- स्टीन बैंक के प्रसिद्ध उपन्यास ‘आव माइस एण्ड मैन’ का अनुवाद।

‘हिज एक्सेलेन्सी’ (1959)- अमर कथाकार दॉस्त्यॉवस्की के लघु उपन्यास ‘डर्टी स्टोरी’ का हिन्दी अनुवाद।

सम्पादन

‘प्रतिनिधि एकांकी’ 1950 ‘रंग एकांकी’ 1956 ‘संकेत’ 1953

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here