जन्मदिन विशेष जैकी श्रॉफ – बॉलीवुड का एक ऐसा अभिनेता जिन्होंने कैरियर के टॉप पर सिंगल के बजाय मल्टीस्टारर फिल्मों में काम किया

0
156

जैकी श्रॉफ हिंदी सिनेमा के एक जाने माने अभिनेता हैं। उनके खाते में एक से बढ़कर एक फिल्में हैं। उन्होंनें बॉलीवुड फिल्म इंड्रस्ट्री को साढ़े तीन दशक से भी ज्यादा का समय दिया हैं औऱ अब भी एक अभिनेता के तौर पर फिल्मों में सक्रिय हैं। जैकी श्रॉफ ने अपने 38 साल के फिल्मी कैरियर में 176 से ज्यादा फिल्मों में काम किया हैं। इस दौरान जैकी ने एक्शन कॉमेडी सीरियस सस्पेंश थ्रिलर से लेकर हॉरर फिल्मों में अपने अभिनय का जलव बिखेरा हैं। वे कभी एक किरदार या एक जोनर में बंध कर नही रहे। कैरियर की शुरुआत में एक्शन फिल्में की,बीच में रोमांटिक और बाद में कामेडी फिल्मों में अपनी अदायगी से दर्शको का दिल जीता। उन्होंने समय के नजाकत को भलि भांति समझा औऱ फिल्मों में हीरो के बजाय हीरो के बाप की भूमिका भी निभायी। बॉलीवुड का कल्चर जैसे-जैसे बदला जैकी  ने भी अपने आप को बदला जिसके कारण आज वो फिल्मों में दमदार विलन और ज्यादतर सीरियस रोल प्ले करते जा रहे हैं। जैकी श्रॉफ का आज 64 वां जन्मदिन है और वो बॉलीवुड में अब भी सक्रिय हैं। उनकी ऊर्जा अब भी 30 साल के नायक के समान हैं। जिसका अंदाजा इस बात से ही लगाया जा सकता हैं कि 64 पार कर जाने के बाद वे अब भी फिल्मों में नजर आ रहे है। जबकि अनिल कपूर और चंकी पांडे को छोड़ दे तो उनके दौर के लगभग सभी अभिनेता अपने घरो मे आराम कर रहे हैं। उनकी अपकमिंग फिल्म राधे योर मोस्ट वांटेड भाई हैं जिसमे वो सलमान खान के साथ दो दो हाथ करते हुए दिखाई देंगे। इस फिल्म में वो दिशा पटानी के भाई का किरादर निभा रहे हैं। उनके 64 वे जन्मदिन के मौके आइए जानते है,उनके जीवन से जुड़े कुछ महत्वपूर्ण तथ्यों के बारे में।

जैकी श्रॉफ का वास्तविक नाम जयकिशन काकुभाई श्रॉफ है

जैकी श्रॉफ का जन्म 1 फरवरी 1957 में मुंबई के लातूर जिले के उद्गीर में में हुआ था। इनका पूरा नाम जयकिशन काकुभाई श्रॉफ है। लेकिन फिल्मों में आने के बाद अपना नाम जैकी श्रॉफ ऱख लिया था।  इनके पिता का नाम काकाभाई हरिभाई श्रॉफ था, जो कि एक गुजराती फैमिली से ताल्लुक रखते थे। जैकी दादा के माता का नाम रीता था जो कि तुर्क की रहने वाली थी। उनकी पत्नी का नाम आयशा दत्त है। जैकी श्रॉफ के दो बच्चे हैं जिनका नाम कृष्णा ( पुत्री) और टाइगर श्रॉफ ( बॉलीवुड अभिनेता) है।

मॉडलिंग से की कैरियर की शुरुआत

जैकी श्रॉफ ने अपने फिल्मी कैरियर का आगाज मॉडलिंग से किया । उन्होनें कई ब्रैंड को प्रस्तुत किया लेकिन यहां उन्हें कुछ खास सफलता नही मिल पायी। जिसके बाद उन्होनें अभिनय की ओर रुख किया। पर आउटसाइडर होने के कारण फिल्मों में भी उन्हें काम नही मिल रहा था। बॉलीवुड के डायरेक्टर और प्रोड्यूसर उन्हें भाव नही देते थे। उनके चेहरे के रंग को अवहेलना करते थे। पर जैकी श्रॉफ ने तो अभिनेता बनने की ठान ली थी। उन्हे किसी की आलोचनाओं का कोई असर नही पड़ता था। वे लगातार ऑडिसन देते जा रहे थे। मेहनत रंग लाई और वर्ष 1982 में फिल्म ‘’स्वामी दादा”  से  अपने फिल्मी कैरियर का आगाज किया। स्वामी दादा फिल्म ने उन्हें कुछ खास सफलता नही दिलाई।

हीरो फिल्म ने दिलाई बॉलीवुड में पहचान

वर्ष 1982 में प्रदर्शित स्वामी दादा फिल्म ने उन्हे कुछ सफलता तो नही दिलाई लेकिन इस फिल्म में काम करने के दौरान वे उस दौर के सबसे बड़े डायरेक्टर सुभाष घई के नजर में वो आ गये। 80 के दशक के सबसे हिट निर्देशक सुभाष घई ने उन्हे अपनी नयी फिल्म हीरो के लिए बतौर लीड एक्टर उन्हे कास्ट कर लिया। हीरो फिल्म के जरिए उन्होने मिनाक्षी शेशाद्री को बॉलीवुड में लॉंच किया। हीरो फिल्म ने उस समय दर्शकों के बीच धूम मचा दी। फिल्म के गाने जैकी के डॉयलॉग और उनके पतली मूंछ वाले स्टाइल के साथ शक्त कपूर और मिनाक्षी शेशाद्री की दमदार अदायगी ने बॉक्स ऑफिस पर रिकॉर्ड के नए झंडे गाढ़े।

80 और 90 के दशक के सबसे शानदार हीरो बने जैकी श्रॉफ

हीरो फिल्म से बॉलीवुड में अपना लोहा मनवाने के बाद उन्हे आगे कई सारी फिल्मों में काम किया। जिन्होने उन्हें 80 और 90 के दशक का सबसे शानदार अभिनेता बनाया। इस दौरान उन्होने राम लखन कर्मा,दूध का कर्ज,त्रिदेव ,वर्दी,जंग,खलनायक ,अंदर बाहर, युद्ध, तेरी मेहरबानियां, पाले खां, अल्‍लाह रख्‍खा, जवाब हम देंगे, काश, परिंदा, मैं तेरा दुश्‍मन, सौदागर, किंग अंकल, गर्दिश, रंगीला, बंदिश, अग्निसाक्षी जैसी फिल्मों मे काम किया जिन्होने इन्हें एक सफल अभिनेता के तौर पर स्थापित कर दिया। जैकी श्रॉफ की जौड़ी अनिल कपूर औऱ संजय दत्त के साख खूब जमी।

जैकी श्रॉफ की लोकप्रिय फिल्‍में

स्‍वामी दादा, हीरो, अंदर बाहर, युद्ध, तेरी मेहरबानियां, पाले खां, अल्‍लाह रख्‍खा, कर्मा, जवाब हम देंगे, काश, राम लखन, परिंदा, मैं तेरा दुश्‍मन, त्रिदेव, वर्दी, दूध का कर्ज, सौदागर, किंग अंकल, खलनायक, गर्दिश, त्रिमूर्ति, रंगीला, बंदिश, अग्निसाक्षी, बॉर्डर, बंधन, रिफयूजी, मिशन कश्‍मीर, फर्ज, यादें, लज्‍जा, देवदास, ऑन-मेन एट वर्क, हलचल, क्‍योंकि, भूत अंकल, भागमभाग, किसान, वीर, शूटआऊट एट वडाला, धूम 3, हैप्‍पी न्‍यू ईयर, डर्टी पॉलीटिक्‍स।

जैकी श्रॉफ से जुड़े रोचक बातें

  • फिल्‍मों में आने से पहले जैकी ट्रक ड्राईवर हुआ करते थे।
  • फिल्‍म इंडस्‍ट्री में उन्‍हें काम करते हुए लगभग चार दशक का वक्‍त हो चुका है।
  • उन्‍हें करीब 175 से ऊपर फिल्‍मों में काम किया है जिसमें हिन्‍दी, तमिल, बंगाली, तेलगु, मलयालम, कन्‍नड़, मराठी, पंजाबी, ओडि़या फिल्‍में शामिल हैं।
  • वो डायरेक्‍टर सुभाष घई ही थे जिन्‍होंने श्रॉफ को ‘जैकी’ नाम दिया था।
  • जैकी और उनकी पत्‍नी की एक मीडिया कंपनी भी है जिसका नाम जैकी श्रॉफ एंटरटेनमेंट लिमिटेड है। सोनी टीवी में उनका 10परसेंट शेयर था लेकिन 2012 में उन्‍होंने अपने शेयर को बेंचने का निर्णय लिया और सोनी अीवी के साथ अपने 15 साल पुराने रिश्‍ते को खत्‍म कर लिया।
  • 1990 के बाद वे लीड रोल से ज्‍यादा सह-अभिनेता के तौर पर मजबूत रोल में दिखने लगे।
  • जैकी को फिल्‍म ‘परिंदा’ के लिए सर्वश्रेष्‍ठ अभिनेता का फिल्‍मफेयर पुरस्‍कार मिला तो वहीं फिल्‍म ‘खलनाय‍क’ के लिए उन्‍हें फिल्‍मफेयर पुरस्‍कार में सर्वश्रेष्‍ठ सहायक अभिनेता के तौर पर नामां‍कित किया गया। इसके अलावा भी कई बार उन्‍हें पुरस्‍कारों से नवाजा जा चुका है।
  • 2007 में जैकी को भारतीय सिनेमा में उत्कृष्ट योगदान के लिए विशेष न्यायाधीश जूरी पुरस्कार से भी सम्‍मानित किया गया।
  • उन्‍होंने स्‍टार वन पर प्रसारित हुए मैजिक शो ‘इंडियाज मैजिक स्‍टार’ में जज की भूमिका भी निभाई। यह शो 3 जुलाई 2010 से 5 सितम्‍बर 2010 तक चला।

पुरस्कार औऱ नामांकन

1990 विजेता: फ़िल्मफ़ेयर सर्वश्रेष्ठ अभिनेता पुरस्कार- परिंदा

1994 नामांकित: फ़िल्मफ़ेयर सर्वश्रेष्ठ अभिनेता पुरस्कार- गर्दिश

1994 नामांकित: फ़िल्मफ़ेयर सर्वश्रेष्ठ सहअभिनेता पुरस्कार-खलनायक

1995 विजेता: फ़िल्मफ़ेयर सर्वश्रेष्ठ सहअभिनेता पुरस्कार- 1942 ए लव स्टोरी

1996 विजेता: फ़िल्मफ़ेयर सर्वश्रेष्ठ सहअभिनेता पुरस्कार- रंगीला

1997 नामांकित: फ़िल्मफ़ेयर सर्वश्रेष्ठ सहअभिनेता पुरस्कार- अग्निसाक्षी

2001 नामांकित: फ़िल्मफ़ेयर सर्वश्रेष्ठ खलनायक पुरस्कार- मिशन कश्मीर

2002 नामांकित: फ़िल्मफ़ेयर सर्वश्रेष्ठ सहअभिनेता पुरस्कार- यादें

2003 नामांकित: फ़िल्मफ़ेयर सर्वश्रेष्ठ सहअभिनेता पुरस्कार-देवदास

2007 विशेष गौरव निर्णायक समिति पुरस्कार (विशेष ऑनर जूरी पुरस्कार) हिंदी सिनेमा में उत्कृष्ट योगदान के लिए!

2014 विजेता: मूल रॉकस्टार

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here