टीकाकरण के दो दिन बाद पुलिस अधिकारी की मौत, राज्य स्तरीय एईएफआई समिति करेगी रिपोर्ट की जांच

0
67

रायपुर (प्रखर)। स्वास्थ्य कर्मियों के बाद फ्रंटलाइन वर्कर्स को कोरोना वैक्सीन लगाया गया। इसी कड़ी में रायपुर पुलिस अधीक्षक कार्यालय में अनुकम्पा नियुक्ति पर तैनात एएसआई पुष्पेंद्र पाण्डेय ने भी वैक्सीन लगवाई थी। 14 फरवरी की रात सीने में दर्द उठने के बाद उनकी मौत हो गई। अब इस मामले की जांच राज्य स्तरीय एडवर्स इवेंट्स फॉलोविंग इम्यूनाइजेशन कमेटी करेगी।

राज्य टीकाकरण अधिकारी डाॅ अमर सिंह ठाकुर ने बताया कि रायपुर में 14 फरवरी को सहायक सब इंस्पेक्टर,उम्र 34 वर्ष की मृत्यु हुई ,उनका पोस्टमार्टम किया गया और अंतिम रिपोर्ट अभी आना बाकी है। उन्होंने कहा कि प्रथम दृष्टया इसका संभावित कारण हृदयाघात लग रहा है किंतु रिपोर्ट आने एवं राज्य स्तरीय एईएफआई समिति द्वारा रिपोर्ट का विस्तृत विश्लेषण करने के बाद, मृत्यु का वास्तविक कारण ज्ञात हो सकेगा। सहायक सब इंस्पेक्टर कोे 12 फरवरी को रायपुर में कोविड वैक्सीन लगाई गई थी। उन्हे 14 फरवरी को रात में सीने में अचानक दर्द होने के कारण एक निजी अस्पताल ले जाया गया। वहां के डाक्टरों ने प्राथमिक जांच करके बताया कि अस्पताल पहुंचने के पूर्व ही उनकी मृत्यु हो गई थी। उनका आज 15 फरवरी को मेकाहारा रायपुर में पोस्ट मार्टम किया गया।

राज्य स्तरीय एईएफआई समिति के अध्यक्ष एवं पं जवाहर लाल नेहरू चिकित्सा महाविद्यालय के कम्यूनिटी मेडीसीन विभाग के विभागाध्यक्ष डाॅ निर्मल वर्मा ने बताया कि उक्त प्रकरण, समिति के संज्ञान में आया और समिति द्वारा बैठक में चर्चा के बाद, भारत शासन के दिशा निर्देशों के अनुरूप जिला मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी रायपुर से, निर्धारित प्रारूप में जानकारी मांगी गई है। इस रिपोर्ट का विस्तृत विश्लेषण करने के बाद ही मृत्यु का वास्तविक कारण ज्ञात हो सकेगा। उन्होंने कहा कि सामान्यतः पोस्टमार्टम एक व्यक्ति द्वारा किया जाता है, लेकिन इस प्रकरण में एक टीम ने पोस्टमार्टम किया।

राज्य स्तरीय समिति में अनेक विशेषज्ञ चिकित्सक, आईएपी के प्रतिनिधि एवं यूनीसेफ के प्रतिनिधि सदस्य है। यह समिति सभी प्रकार के टीकाकरण के बाद कोई एडवर्स इवेंट होने के सभी प्रकरणों की जांच करती हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here