युवाओं को आगे बढ़ने के लिए प्रेरित करेगी पूर्व मुख्यमंत्री अजीत जोगी की बायोपिक ‘द जोगी एक प्रेरणास्रोत’

0
90

रायपुर (प्रखर)। छत्तीसगढ़ी सिनेमा मंदराजी, हस झन पगली फस जाबे और जोहार छत्तीसगढ़ जैसी छत्तीसगढ़ी फिल्मों के जरिए धीरे-धीरे लोकप्रियता की सीढ़ी चढ़ रही हैं। बीते दिनो एक प्रेस कांफ्रेस के जरिए अमित जोगी,रेणु जोगी और देवेंद्र जांगड़े ने मिलकर पूर्व मुख्यमंत्री अजित जोगी के जीवन पर एक फिल्म बनाने की घोषणा की थी। इस फिल्म का नाम द जोगी रखे जाने की घोषणा की गयी हैं,जो राजश्री सिनेमा के प्रोडक्शन तले बनेगी । जिस पर काम जोरो से चल रहा हैं। इसी तारतम्य में मंगलवार को द जोगी फिल्म की टीम ने रायपुर स्थित प्रेस क्लब में एक प्रेस कांफ्रेस का आयोजन किया। प्रेस कांफ्रेस में फिल्म के निर्माता अरविंद कुर्रे,निर्देशक देवेंद्र जांगड़े और संगीतकार हेमलाल चतुर्वेदी के साथ फिल्म एडवाइजर भुपेंद्र घृतलहरे पहुंचे। द जोगी फिल्म की टीम ने पत्रकारो से चर्चा करते हुए बताया कि यह फिल्म छत्तीसगढ़ी समेत हिंदी भाषा में भी बनेगी। फिल्म के लिए हम उन कलाकारो को कास्ट करना चाहते हैं। जिनमें प्रतिभा तो हैं। लेकिन उन्हें अपनी प्रतिभा का प्रदर्शन करने के लिए कोई प्लेटफॉम नही मिल रहा। जिसके लिए हम प्रदेश के हर जिले में जाकर नवांकुर कलाकारों का ऑडिसन लेंगे। 21 और 22 फरवरी को हम राजधानी के रावांभाठा स्थित मां बंजारी गुरुकुल विद्यालय में फिल्म के कास्ट के लिए ऑडिसन लेने जा रहे हैं। कलाकार चाहे जिस विधा से संबंधित हो हमसे संपर्क करें। रायपुर के मां बंजारी गुरुकुल विद्यालय में होने वाले ऑडिसन का समय ,सुबह 10 बजे से लेकर शाम 5 बजे तक रहेगा।

अपने सपनो को कैसे जियें ये कोई सपनों के सौदागर पूर्व मुख्यमंत्री अजीत जोगी से सीखे – देवेंद्र जांगड़े
पूर्व मुख्यमंत्री अजीत जोगी की बायोपिक द जोगी एक प्रेरणास्रोत को निर्देशित करने वाले छत्तीसगढ़ी अभिनेता देवेंद्र जांगड़े ने बताया कि फिल्म में जोगी की असाधारण जीवनशैली को दिखाई जाएगी। कि आखिर कैसे सुदुर अंचल का एक अदिवासी बालक अजीत प्रमोद कुमार जोगी अपने अविकसित क्षेत्र से निकल कर ना सिर्फ शिक्षा प्राप्त की, बल्कि इंजीनियरिंग में गोल्ड मेडल प्राप्त किया। एक आदिवासी क्षेत्र से आने वाले युवा का पांव इतने में रुका नही और उन्होंने यूपीएससी की तैयारी करना शुरु कर दिया। पहली बार वे आईपीएस बने लेकिन यहां उनका मन नही लगा। एक साल से ज्यादा आईपीएस के रुप में सेवा देते हुए उन्होंने आईएएस की परीक्षा निकाली और आईएएस बने। इतना सब करने में के बाद कोई व्यक्ति रुक जाता हैं। लेकिन अजीत जोगी नही रुके। कलेक्टरी छोड़ राजनिती में आए औऱ सहडोल,रीवा से होते हुए छत्तीसगढ़ के पहले मुख्यमंत्री के रुप में आसीन हुए। शायद यही कारण रहा कि बड़े – बड़े विद्वान उन्हें सपनों का सौदागर कहते हैं।

प्रदेश की सबसे महंगी फिल्म होगी ‘द जोगी एक प्रेरणास्रोत’ – अरविंद कुर्रे
द जोगी एक प्रेरणास्रोत के बारें में बताते हुए फिल्म के निर्माता अरविंद कुर्रे ने कहा कि यह फिल्म छत्तीसगढ़ी सिनेमा में इतिहास रचेगी। फिल्म प्रदेश की अब तक की सबसे महंगी फिल्म होगी। जिसे छत्तीसगढ़ी भाखा के साथ-साथ राष्ट्र भाषा हिंदी में भी बनाया जाएगा। फिल्म में 1960 से लेकर 2020 तक का ऐरा दिखाया जाएगा। जिसे पर्द पर प्रदर्शित करना हमारे लिए काफी चुनौतीपूर्ण होगा। फिल्म में जोगी का किरदार निभाने के लिए एक अच्छे युवा कलाकार की तलाश की जा रही हैं। जिसके लिए हम 21 फरवरी से प्रदेश के सभी जिलो में ऑडिसन करवाने वाले हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here