एक साल की बेटी ने दिया शहीद पिता को मुखाग्नि, रो पड़े ग्रामीण

0
103
मासूम ने दी शहीद पिता को मुखाग्नि
मासूम ने दी शहीद पिता को मुखाग्नि

रायपुर (प्रखर) । नारायणपुर नक्सली हमले में शहीद जवान सेवक सलाम पंचतत्व में विलीन हो गए । चंवड़ गांव में शहीद जवान सेवक सलाम के मुखाग्नि का दृश्य देख आंखे नम हो गई । शहीद पिता को मुखाग्नि उसी एक साल की बेटी ने दिया। नारायणपुर IED ब्लास्ट में शहीद हुए सेवका सलाम का पार्थिव शरीर बुधवार को उनके पैतृक गांव चवड़ा गांव पहुंचा । जहां उनका सैनिक सम्मान के साथ अंतिम संस्कार किया गया । शहीद के अंतिम दर्शन के लिए बड़ी संख्या में ग्रामीण पहुंचे । मासूम ने शहीद पिता को अपने चाचा की गोद से मुखाग्नि दी और आखिरी विदाई दी । अंतिम संस्कार के समय पुलिस प्रशासन के अधिकारी भी मौजूद रहे ।

इससे पहले नारायणपुर पुलिस लाइन में जवान सेवक सलाम समेत सभी पांच शहीद जवानों को श्रद्धांजलि दी गई । जिसके बाद जवानों के पार्थिव शरीर उनके घर भिजवाया गया । श्रद्धांजलि कार्यक्रम में बस्तर आईजी सुंदरराज पी. विधायक मोहन मरकाम, चंदन कश्यप समेत पुलिस और प्रशासन ने आला अधिकारी मौजूद रहे ।

नक्सलियों का खूनी खेल

मंगलवार को नारायणपुर में नक्सलियों ने जवानों पर बड़ा हमला किया. नक्सलियों ने सर्चिंग से लौट रहे जवानों की एक बस को बम से उड़ा दिया है । जिसमें 5 जवान शहीद हो गए हैं । हमले में करीब 19 जवान घायल हो गए थे । शहीदों में कांकेर के चंवड़ गांव के रहने वाले जवान सेवक सलाम भी शामिल हैं । सेवक सलाम के शहीद होने की खबर गांव में फैलते ही पूरे गांव में मातम पसर गया । शहीद सेवक सलाम की 1 साल की बेटी है । जिसके सिर से पिता का साया उठ गया है । नक्सलियों की इस कायराना करतूत से ग्रामीणों में काफी आक्रोश भी देखा जा रहा है।

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here